सुस्वागतम्

आप सभी ब्लाँगर गणों का तथा विजिटरों का हमारे ब्लाँग में स्वागत है।





मंगलवार, 26 जून 2012

ऐ खुश नसीब ऐ दिलो दिलदार



ऐ खुश नसीब ऐ दिलो दिलदार
तू ही मेरा सपना तू ही मेरा प्यार
जुङा ये जीवन तुझसे ही दिलवर
बिन तेरे है अब जीना बेकार।

तू रहे खुश हमेशा ऐ मेरे दिलबर
खङी हो खुशियाँ करें तेरा इंतजार
दे दूँ प्यार मै तुझको इतना
कर ले मुझे तू सह्दय स्वीकार।

तुझको ही बसाया दिल में अपने
करदे तू मेरी कल्पना स्वीकार
सच्चा है मन और सच्चा है दिल
हर पल करूँ मै तेरी ही पुकार

ऐ खुश नसीब ऐ दिलो दिलदार
तू ही मेरा सपना तू ही मेरा प्यार।

1 टिप्पणी:

  1. ऐ खुश नसीब ऐ दिलो दिलदार
    तू ही मेरा सपना तू ही मेरा प्यार।

    अत्यन्त ही खूबसूरत पंक्तिया है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं